क्यों अंबाला में तैनात किये जा रहे हैं फ्रांस से आ रहे घातक लड़ाकू राफेल विमान ? ये है इसके पीछे की बड़ी वजह

आज बुधवार 29 जुलाई को दुनिया का सबसे घातक लड़ाकू विमान माने जाने वाले राफेल अब भारतीय वायुसेना में शामिल हो रहा है और भारतीय वायुसेना के अंबाला एयरबेस पर 5 राफेल विमान लैंड करने जा रहे हैं। विमान सोमवार को फ्रांस से निकल चुके हैं और फिलहाल आबूधावी में रुके हुए हैं। जानकारी के मुताबिक़ भारतीय वायुसेना को कुल 32 राफेल मिलेंगे और 2022 तक सभी 32 विमान वायुसेना के बेड़े में शामिल हो जाएंगे। लेकिन पहले 5 विमानों की खेप बुधवार को अंबाला लैंड करने वाली है।

इस जानकारी के बाद यह सवाल उठता है कि आखिर वायुसेना ने क्यों पहले 5 राफेल विमानों को अंबाला एयरबेस में तैनात करने की योजना बनाई है? इस सवाल का जवाब भारत के सामने रक्षा चुनौतियां और उन चुनौतियों से निपटने में अंबाला के महत्व से मिल जाता है।आखिर वायुसेना ने क्यों पहले 5 राफेल विमानों को अंबाला एयरबेस में तैनात करने की योजना बनाई है? इस सवाल का जवाब भारत के सामने रक्षा चुनौतियां और उन चुनौतियों से निपटने में अंबाला के महत्व से मिल जाता है। दरअसल मौजूदा समय में जम्मू-कश्मीर में भारत और पाकिस्तान के बॉर्डर (LoC) तथा लद्दाख में भारत और चीन बॉर्डर पर मुख्य चुनौती है। अंबाला से यह दोनो ही जगह काफी पास हैं। LaC के उस पार चीन का जो नजदीकी एयरबेस उसकी अंबाला से लगभग 300 किलोमीटर दूरी है जबकि अंबाला के पास पाकिस्तान के नजदीकी एयरबेस की दूरी लगभग 200 किलोमीटर है। जरूरत पड़ने पर राफेल विमान मिनटों में इन दोनो एयरबेस को अपना निशाना बना सकता है, इसीलिए फ्रांस से आ रहे पहले 5 लड़ाकू विमानों की तैनाती अंबाला  में की जा रही है|

यह भी पढ़े : दिल्ली में कम हो रहे कोरोना मामलों पर हाईकोर्ट ने जताया शक, कहा - क्यों किये जा रहे हैं गलत नतीजे देने वाले रैपिड एंटीजन टेस्ट 

चीन और पाकिस्तान के पास इस समय जो एडवांस लड़ाकू विमान हैं उनके मुकाबले राफेल काफी एडवांस है। पाकिस्तान के पास फिलहाल F-16 विमान सबसे एडवांस है और उसे पिछले साल फरवरी में भारतीय पायलट अभिनंदन ने मिग वायसन से ही गिरा दिया था। चीन के पास सबसे एडवांस J-20 लड़ाकू विमान है, चीन इसे दुनिया का सबसे एडवांस लड़ाकू विमान बताता है। लेकिन चीन के इस विमान के साथ दिक्कत ये है कि इसे दुनियाभर में किसी भी लड़ाई में टेस्ट नहीं किया गया है। जबकि दूसरी ओर राफेल को दुनियाभर में कई लड़ाइयों में आजमाया भी जा चुका है।

Latest देश
  • देश में 34 सालों बाद हुए स्कूल-कॉलेज व्यवस्था में ये बड़े बदलाव, मोदी सरकार ने नई शिक्षा नीति को दी मंजूरी

    देश में 34 सालों बाद हुए स्कूल-कॉलेज व्यवस्था में ये बड़े बदलाव, मोदी सरकार ने नई शिक्षा नीति को दी मंजूरी

  • Coronavirus India Live Updates : 29 जुलाई 2020 दोपहर 3 बजे तक 15 लाख के पर पहुंचा देश में कोरोना मरीजों का आंकड़ा

    Coronavirus India Live Updates : 29 जुलाई 2020 दोपहर 3 बजे तक 15 लाख के पर पहुंचा देश में कोरोना मरीजों का आंकड़ा

  • अंबाला पहुंचे राफेल, इन 10 खूबियों के कारण भारतीय सेना की ताकत और मजबूत होने से बढ़ी चीन-पाकिस्तान की परेशानी

    अंबाला पहुंचे राफेल, इन 10 खूबियों के कारण भारतीय सेना की ताकत और मजबूत होने से बढ़ी चीन-पाकिस्तान की परेशानी

  • क्यों अंबाला में तैनात किये जा रहे हैं फ्रांस से आ रहे घातक लड़ाकू राफेल विमान ? ये है इसके पीछे की बड़ी वजह

    क्यों अंबाला में तैनात किये जा रहे हैं फ्रांस से आ रहे घातक लड़ाकू राफेल विमान ? ये है इसके पीछे की बड़ी वजह

  • श्री राम जन्मभूमि पूजन के दिन अयोध्या पर आतंकी हमला करने की फिराक में जैश-लश्कर आतंकी, खुफिया एजेंसी ने किया आगाह

    श्री राम जन्मभूमि पूजन के दिन अयोध्या पर आतंकी हमला करने की फिराक में जैश-लश्कर आतंकी, खुफिया एजेंसी ने किया आगाह

  •  बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने बताया कोरोना का इलाज, कहा - 5 अगस्त तक शाम 7 बजे पांच बार करें हनुमान चालीसा का पाठ

    बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने बताया कोरोना का इलाज, कहा - 5 अगस्त तक शाम 7 बजे पांच बार करें हनुमान चालीसा का पाठ